Click here for Myspace Layouts

Sunday, July 22

आज के चन्द नेता


हम किस तरह खाएं पैसा ,ये हरगिज  भुला सकते नहीं ,
हम  सर तो  झुका सकते हैं ,पर सर कटा सकते नहीं |
बड़ी ही सूझ- बुझ  से मंहगाई   हम बड़ा तो सकते हैं ,
जात धर्म के नाम पर सभी  को लड़ा तो सकते हैं ,
देश चले या ना चले बड़े -बड़े कारखाने चला तो सकते हैं ,
चोरी ,ठगी ,बेईमानी हमारा हक़ है ,सबको बता तो सकते हैं |
बहुत कुछ समझ रही है अब जनता जूत्ते,चप्पल  भी मारने लगी है ,
छोटी मोटी रैलियां कर -करके अब तो हमें ललकारने भी लगी है ,
चप्पल ,जूते तो ठीक है ,पर गोली हम खा सकते नहीं ,
हम  सर तो  झुका सकते हैं ,पर सर कटा सकते नहीं |
इस देश को आजाद कराने के लिए ,वीरों की घूमती  थी टोलियाँ ,
सनकी थे वो जिन्होंने सीने  पर खाई थी गोलियां ,
और हम तो ऐसे हैं ,देश की भी लगा सकते हैं बोलियाँ ,
सजा कोई नहीं दे सकता है हमें ,चाहे जिसकी भी उतारें चोलियाँ |
इस देश को करना है बर्बाद ,चाहे सरकार चला सकते नहीं ,
हम  सर तो  झुका सकते हैं ,पर सर कटा सकते नहीं |

17 comments:

  1. bahut hi sateek v samyik prastuti-----
    poonam

    ReplyDelete
  2. बहुत बढ़िया सटीक प्रस्तुती, सुंदर रचना,,,,,

    RECENT POST काव्यान्जलि ...: आदर्शवादी नेता,

    ReplyDelete
  3. वाह , एकदम कनपट्टी पर सटा के मारे हैं सटाक सटाक । बहुत खूब एकदम सन्नाट
    :)

    ReplyDelete
  4. ...bahut badhiya likha hai Suresh, mujhe achhaa laga!

    ReplyDelete
  5. इस देश को आजाद कराने के लिए ,वीरों की घुमती थी टोलियाँ ,
    सनकी थे वो जिन्होंने सिने पर खाई थी गोलियां ,
    और हम तो ऐसे हैं ,देश की भी लगा सकते हैं बोलियाँ ,
    सजा कोई नहीं दे सकता है हमें ,चाहे जिसकी भी उतारें चोलियाँ |
    इस देश को करना है बर्बाद ,चाहे सरकार चला सकते नहीं ,
    हम सर तो झुका सकते हैं ,पर सर कटा सकते नहीं |
    सुरेश भाई भाव गत सौन्दर्य है रचना में अर्थ गर्भित भी है कृपया "घुमते "के स्थान पर "घूमते " और "सिने"के स्थान पर सीने कर लें.ब्लॉग पर दस्तक बनाए रहिये .

    ReplyDelete
  6. लाजवाब पेरोडी है ... बहुत खूब ...

    ReplyDelete
  7. बेहतर जानकारी दी है आपने नेट से दूर रहने के कारण कमेन्‍ट मे देरी हूई है

    ReplyDelete
  8. आजकल वीर रस की ऐसी रचनाये देखने में कम आती हैं आजकल मोहब्बतो के रस ज्यादा घूम रहे हैं अंतरजाल में । ऐसी रचनाओ की जरूरत है । शब्दा के ऐसे ही करिश्मे से आजादी की गाथा लिखी गयी थी

    ReplyDelete
  9. highly appreciable...Really very few poems are written today targetting the corruption directly .and that too done with perfection
    auperlike.

    ReplyDelete
  10. बहुत बढ़िया..........तीखी रचना....
    सादर
    अनु

    ReplyDelete
  11. बिलकुल सच...सटीक प्रस्तुति..

    ReplyDelete
  12. बड़ी ही सूझ- बुझ से मंहगाई हम बड़ा तो सकते हैं ,
    जात धर्म के नाम पर सभी को लड़ा तो सकते हैं ,
    .... बढ़िया सटीक प्रस्तुती

    ReplyDelete
  13. इस देश को करना है बर्बाद ,चाहे सरकार चला सकते नहीं ,
    हम सर तो झुका सकते हैं ,पर सर कटा सकते नहीं |

    वाह... बहुत ही सटीक रचना, शुभकामनाएं.

    रामराम

    ReplyDelete
  14. जात धर्म के नाम पर सभी को लड़ा तो सकते हैं ,
    .... बढ़िया सटीक प्रस्तुती
    मेरे ब्लॉग पर आपका स्वागत है सुरेश जी

    ReplyDelete
  15. सच कड़वा लगता है लेकिन कहना भी पड़ता है.

    ReplyDelete